उड़ान

उड़ान – ललित हिनरेक तुम equality कि बात करते हो तुम revolution कि बात करते हो तुम देशभक्ति कि बात करते हो और तुम बदलाव कि बात करते हो यहॉ तक कि तुम विकास की बात करते हो वो भी तब जब तुम सब सुविधा से संचित हो । मैंने क्या देखा कि तुमने तोContinue reading “उड़ान”