उड़ान

उड़ान – ललित हिनरेक

तुम equality कि बात करते हो

तुम revolution कि बात करते हो

तुम देशभक्ति कि बात करते हो

और तुम बदलाव कि बात करते हो

यहॉ तक कि तुम विकास की बात करते हो

वो भी तब जब तुम सब सुविधा से संचित हो ।

मैंने क्या देखा कि तुमने तो बस पाले बदले ,

कपड़े बदले , खोल बदला और बस घोटाले बदले ।

ये वो है जो जिनके मॉ बाप ने दिहाडी मज़दूरी की है ,

ये वो है चन्द पैसों नो जिनकी सारी ख़्वाहिश पूरी की है ।

तुम देखना जब ये बदलेंगे तो वो revolution होगी ,

जिसकी तुमने कपट इरादों से कभी पुरजोर वकालत की थी ।

तुम देखना इनके सपनों से ही ख़ुशहाली आयेगी ,

जो तुम्हारी उस equality की लढियॉ लगाएगी ।

जिसकी रोशनी से जगमग ना सिर्फ़ ऐक घर होगा बल्कि

वो भी होगें जिनके सपनों मे घनघोर अंधेरे नज़र आते है ।