कर्म (a moral story)

(यह ऐक छोटी सी कहानी है जो बचपन की उन बेहतरीन कहानियों मे से ऐक है जिसने मेरे जीवन को बेहद प्रभावित किया है , इसको रचनात्मकता देने के लिये ऐक ताना बाना बुना गया है , उम्मीद है कि यह कहानी सदैव जिन्दा रहेगी – thelostmonk)

सुदूर पहाड़ों की घाटी और यमुना नदी के किंनारे बसा अलीगंज मात्र 50-60 परिवारों का यह गॉव ख़ुशहाली और विकास का यश ऐसे फैला रहा था जैसे यमुना का अविरल जल अपनी निरन्तरता । अलीगंज भी सभी प्रकार के लोगों से मिश्रित गॉव था जो सभी थोड़े ग़रीब , थोड़े अमीर प्रकार की आर्थिक परिस्थितियॉ सम्मिलित किये हुये था। यहॉ मुख्य व्यवसाय कृषि था लेकिन यमुना की तलवार सरीखी धार पहाड़ों को चीरती हुयी जो कण कण अपने साथ लेकर चलती है उसकी मूल्यवान रेत का भी व्यवसाय ज़ोरों पर था ।लेकिन गॉव में ज़्यादातर लोग बेहद ग़रीब थे तो संसाधनों पर केवल , कुछ आर्थिक रूप से मज़बूत परिवारों का ही हाथ था ।रेत का कारोबार व्यक्ति की प्रतिष्ठा से जोड़ा जाता था जिसके पास जितने ज़्यादा घोड़े उसकी उतनी ही ज़्यादा प्रतिष्ठा , हालाँकि गधो को भी प्रयोग में लाया जाता था लेकिन गधो का प्रयोग करने वालों को हेय दृष्टि से देखा जाता था ।

मोहम्मद एक बेहद ग़रीब परिवार से सम्बन्ध रखता था , उसके पॉच बच्चे थे और वह मेहनत मज़दूरी कर ही बच्चो का पेट पालता था । वहीं उसके कच्चे मकान से दस बारह गज पठान रहता था जो आर्थिक और पारिवारिक रूप से बेहद मज़बूत था । पठान के पास चार घोड़े थे जो कि पूरे दिन रेत को ढोने का काम करते रहते थे । पठान का व्यक्तित्व पहले से ही बेहद रूखा था लेकिन पुश्तैनी सम्पत्ति उसके पास थी वह ऊँचे कुल में पैदा हुआ था उसका रूतबा पहले से ही था । वह कई दफ़ा मज़दूरों और कारीगरों से रूखा व्यवहार करता था । वह धार्मिक तो था और नमाज़ पड़ने का भी पाबन्द था ।

मोहम्मद बेहद ग़रीबी में जी रहा था लेकिन उसके चेहरे पर कभी भी निराशा नज़र नहीं आती थी । उसने मज़दूरी कर कर के चन्द पैसों का इन्तज़ाम किया और ऐक छोटा गधा ख़रीदा। वह पठान के यहॉ मज़दूरी करता था तो पठान को बताता की कुछ वक़्त मे जब उसका गधा भी काम लायक हो जायेगा तो वह भी रेत का काम शुरू करेगा । पठान को यह सब अच्छा नही लगता था और वह मोहम्मद को नीचा दिखाने के लिये अन्य मज़दूरों के सामने रूखा व्यवहार करता था , तरह तरह के ताने मारता था लेकिन मोहम्मद हँसते हँसते फिर अपने काम मे लग जाता । थका हारा मोहम्मद घर लौटता तो अच्छे चारे वगैरह से अपने गधे का ख़याल रखता व पालन पोषण करता । महीनों दो महीनों में उसका असर दिखने लग गया वह गधा तगड़ा होने लग गया और तेज़ी से बड़ता हुआ दिखाई देने लग गया । पठान भी यह देखता तो उससे रहा नहीं गया , मन ही मन उसे ईर्ष्या हो जाती । वह सोचता की कहीं यह भी उसकी बराबरी ना कर बैठे , उसके जैसे रोबदार ना बन जाये तो वह बस परेशान हो जाता । उधर मोहम्मद बेहद शान्त ऐवम सरल क़िस्म का व्यक्ति जो सिर्फ़ पठान के जैसे बनने की चाहत रखता था वह भी चाहता था की वह भी पठान के जैसे तरक़्क़ी करे ।

वह हमेशा पठान से चीज़ें पूछता और जानने की कोशिश करता । मोहम्मद उसे अपने सपने भी बताता तो उसका यह महत्वाकांक्षी होना भी पठान को बुरा लगता । फिर जैसे जैसे मोहम्मद का गधा भी सालभर में तैयार हो गया तो मोहम्मद ने उसे काम पर लगाना शुरू कर दिया । मोहम्मद बेहद प्रेम से देखभाल करता , दिन भर की थकान के बाद हरा हरा चारा और पानी देता । इस तरह उसका जीवन भी पटरी पर उतर गया और वह अपने जीवन को और बेहतर बनाने के लिये हर सम्भव कोशिश करने लग गया । उसने कमायी का कुछ प्रतिशत बचाना शुरू किया और जब पर्याप्त धन हो गया तो ऐक और गधा भी ले लिया ।

पठान तो नमाज़ , मज़ार , दान पुण्य सब चीज़ें करता था ताकि उसकी छवि उसके व्यापार को बढ़ावा दे सके लेकिन चरित्र मे उसके जो ईर्ष्या का दामन था वो तो मानो उसकी आत्मा से लिपटा था । वह सदैव मन मे अल्लाह ताला से दुआ करता कि मोहम्मद के गधे मर जाये तो वह उसकी बराबरी कभी नही कर पायेगा । लेकिन मोहम्मद अपने आप मे ही व्यस्त , सब चीज़ों से अनभिज्ञ था कि पठान उसकी तरक़्क़ी से इतना आहत है ।

मोहम्मद का काम तो चल पड़ा , अब पठान के व्यापार पे भी असर तो पड़ा ही था धीरे धीरे मोहम्मद का नाम और काम सबको पसंद आ गया और मोहम्मद की मेहनत व लगन और उसका निष्पक्ष , निश्छल रवैये ने उसके और तरक़्क़ी प्रदान की । उसका कच्चा मकान , अब पक्का व रंगीन हो गया । उसके बच्चे उन स्कूलों मे दाख़िल हो गये जिनमें पठान के बच्चे थे । पठान रोज की नमाज़ मे दुआ फ़रमाता की मोहम्मद के गधे मर जाये तो उसकी हर फ़रियाद पूरी हो जायेगी ।

ऐक दिन तेज़ मूसलाधार बारिश हुयी और पठान के अस्तबल मे बिजली गिरी , उसके चारों घोड़े मारे गये , उसका बहुत नुक़सान हुआ । पठान तो मानो टूट गया और आज उसको मानो बदन मे कम्पकंपी की तंरगे दौड़ रही हो । वह आज की नमाज़ अदा करने के लिये मस्जिद पंहुचा ।शान्ति से ऐक गहरी सॉस ली दुआओं के हाथ पसारे और बोला

“या खुदा ! बहुत की दिल से खुदा-ई

लेकिन तुझे गधे घोड़े की पहचान न आयी “

जब वापस पंहुचा मोहम्मद उसके घर के आगे था और उसने पठान से कहा ,

पठान भाई ये पॉच हज़ार रख लो और नया घोड़ा ले लेना , मैने भी घोड़े के लिये रखे थे कि कभी नये घोड़े ख़रीद पॉऊगॉ लेकिन आपके साथ वक़्त ने अनहोनी कर दी । आप इसे रख लीजिये तब वापस दे देना जब आप को सही लगे ।

पठान निशब्द था , ऑसुओं की धारा ऐसे फूट पड़ी मानो कोई झरना अपनी ताक़त का प्रदर्शन करना चाहता हो । वह मोहम्मद से लिपट गया और कुछ नही बोला । शायद बहुत कुछ था अन्दर लेकिन ये उसका ऐसा अहसास था मानो उसको कोई खुदा मिल गया हो ।

(Moral – You can create reputation but to built character you need a kind heart )

4 thoughts on “कर्म (a moral story)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: